Social Icons

Pages

Saturday, August 24, 2013

पाकिस्तान के लिए भारत में काटे जाते हैं लाखों पशु

हमें गर्व है कि हम उस भारत देश के नागरिक हैं जो करुणा और दया का देश है, अहिंसा जिसकी पहचान है। विश्व में केवल भारत ने ही ष्जियो और जीने दोष् का संदेश दिया है। हर वर्ष जब पर्यूषण-पर्व आता है तो वह इस बात की याद दिलाता है कि हम प्रकृति की गोद में खेलते सहस्त्रों मूक प्राणियों की भी रक्षा करें। लेकिन हमारे देश की सरकार क्या करती है, इस बारे में सोचने पर असीम वेदना होती है। देश के लगभग सभी प्रमुख स्थानों पर आज बूचड़खाने बन चुके हैं। पिछले दिनों मुम्बई महानगर के कोंकण तट पर दो जहाजों की भिड़ंत से समुद्र में चारों ओर तेल ही तेल फैल गया। कितनी मछलियां मरीं और कितने समुद्री जीवों ने अपने प्राण त्याग दिए, इसका कोई हिसाब नहीं है। केवल हम यह कह सकते हैं कि कछुवे से लेकर झींगे भी अब एक साल तक मुम्बई और आस-पास के समुद्री तट पर दिखलाई नहीं पड़ेंगे। मछलियों का सारा व्यापार ठप्प हो गया। आपदा प्रबंधन की बात करने वाली सरकार इन समुद्री जंतुओं को मरने से नहीं रोक सकी। मछलियों के अण्डे प्रायरू समाप्त हो गए, इसकी कमी कितने समय तक खलेगी, कोई निष्णात ही बतला सकता है। क्यों जरूरी है माँस निर्यात? उक्त दुर्घटना तो मानव भूल के कारण हो गई लेकिन उन हत्याओं का क्या, जो भारत में जानबूझकर की जा रही हैं। भारत में कुल जनसंख्या में 30 प्रतिशत जनता आज भी विशुद्ध शाकाहारी है। 25 प्रतिशत लोग बहुत कम अवसरों पर मांसाहार करते हैं। शेष 45 प्रतिशत मिले-जुले रूप से मांसाहार और शाकाहार दोनों का उपयोग करते हैं। एक समय था जब भारत में 68 प्रतिशत जनता शुद्ध शाकाहारी थी लेकिन अब वह समय नहीं रहा। देशी रियासतों के शासन में 106 दिनों तक पशु नहीं कटते थे लेकिन अब तो ष्पर्यूषण पर्वष् और ष्राम नवमीष् के अवसर पर भी बाजार में जिसका चाहो, उसका माँस उपलब्ध हो जाता है। विडंबना यह है कि भारत सरकार अपने यहाँ  के पशुओं का माँस हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान को भी निर्यात करने से नहीं चूकती। पाकिस्तान वह पड़ोसी देश है जो हम पर न केवल हमले करता है, वरन् आतंकवाद को भारत में प्रायोजित करने वाला प्रमुखतम देश है। भारत से दुश्मनी निकालने के लिए वह कभी संसद पर हमला करवाता है तो कभी मुम्बई में ताज पर। पाकिस्तान वह सब कुछ करने के लिए तैयार रहता है जिससे भारत की सुरक्षा में सेंध लगती रहे। वर्ष में शायद ही कोई दिन जाता होगा जब हम पाकिस्तान के अत्याचारों को नहीं सहते होंगे। भारत के लोग भूखे मरें लेकिन पाकिस्तान को हम आलू, शक्कर, प्याज और मनचाहा अनाज देने में पीछे नहीं रहते। दुनिया के धनी देश भारत को सबसे बड़ा माँस निर्यातक देश बनाने में जुटे हुए हैं। भारत के कृषि मंत्री का मानना है कि अन्य वस्तुओं के उत्पादन में बहुत खर्च आता है, लेकिन माँस एक ऐसा व्यापार है जिसमें हमारा कुछ भी खर्च नहीं होता है। उसे बूचड़खाने में भेजने की देर है बस, फिर तो डॉलर, यूरो और रुपयों से आपकी झोली भर जाएगी। चूंकि पशु का केवल माँस ही नहीं बिकता है बल्कि उसकी खाल, बाल, हड्डियां, आतें, खुर, सींग और चर्बी सभी बाजार में ऊंचे दामों पर बिकते हैं। मुम्बई के एक बड़े माँस निर्यातक के अनुसार, विपुल संख्या में पशुधन भारत के लिए पेट्रोल का कुआं है। जब चाहो उसका उपयोग करो। पशु हमारे-पेट पाकिस्तानी भारत सरकार इसी का अनुसरण कर रही है। वह धड़ल्ले से माँस का निर्यात करती है और अपनी तिजोरी को पैसों से छलका देती है। यहाँ  तक कि वह अपने शत्रु देश पाकिस्तान की जीभ पर भी भारतीय पशुओं का ष्स्वादिष्टष् माँस रखने से परहेज नहीं कर रही है। इस समय दुनिया के 20 ऐसे देश हैं जिन्हें वह नियमित रूप से माँस की आपूर्ति करती है। इनमें पाकिस्तान का नाम भी शामिल है। सरकारी आंकड़े बतलाते हैं कि 2006-2007 में भारत ने पाकिस्तान को 25,606.38 मीट्रिक टन, 2007-2008 में 9,947.68 मीट्रिक टन और 2008-2009 में 2789.37 मीट्रिक टन माँस की आपूर्ति की थी। इसके बदले में भारत सरकार को क्रमशरू 13,309.63, 6125.58 एवं 1,743.53 लाख रुपए की आय हुई। संक्षेप में कहा जाए तो 38343.43 टन माँस के बदले भारत सरकार को 21,178.74 लाख की कमाई हुई। भारत की जागरूक जनता को इस पर विचार करना चाहिए कि कितने सस्ते दामों में हमारा पशु धन हमारे शत्रु देश का भोजन बन रहा है। हम कसाई बन गए? भारत से माँस को निर्यात किए जाने वाले ऑंकड़ों पर जब विचार किया जाता है तो ऐसा महसूस होता है कि भारत दुनिया का अव्वल नम्बर का कसाई बन गया है। जिस देश में इतनी हिंसा फैलेगी तो फिर वहाँ  आतंकवाद नहीं पनपेगा तो और क्या होगा। भारत सरकार अपनी भावी पीढ़ी को क्या संदेश दे रही है इससे स्पष्ट पता चल जाता है। संयुक्त अरब अमीरात एक ऐसा देश है जिसे सबसे अधिक माँस का निर्यात पिछले तीन वर्षों में किया गया है। 2006 में 29890 मीट्रिक टन, 2007 में 26,212 मीट्रिक टन और 2008 में 15648 मीट्रिक टन माँस का निर्यात किया गया। इससे भारत को कुल 58,361 लाख रुपए की कमाई हुई थी। भारत से माँस खरीदने वाले प्रमुख देशों में मिस्त्र, मलेशिया, कुवैत, सऊदी अरब अमीरात, जोर्डन, ईरान, ओमान, लेबनॉन, पाकिस्तान और अजरबैजान मुस्लिम राष्ट्र हैं, जबकि वियतनाम, फिलिपाइंस, अंगोला, जोर्जिया, सेनेगल, घाना और आइवरी कोस्ट गैर मुस्लिम राष्ट्र हैं। इतना ही नहीं भारत में जब भी किसी अन्य देश से माँस- निर्यातष् की मांग आती है, चाहे वह पश्चिम का ही देश हो, तो भारत सदा अपने पशुओं का कत्ल कर उनके माँस को निर्यात करने के लिए उतावला रहता है। भारत सरकार इसे विदेशी मुद्रा कमाने के लिए आवश्यक मानती है। लेकिन क्या किसी का रक्त और किसी का माँस बेचकर दुनिया का भला किया जा सकता है। यदि यह आवश्यक है तो फिर इंसान के रक्त का व्यापार सरकार क्यों शुरू नहीं कर देती? भारत से विदेशों को निर्यातित माँस में भैंसों का माँस अधिक होता है। माँस के दलालों का कहना है कि भारतीय पशु जंगल में चरते हैं, इसलिए उसका माँस अधिक पौष्टिक और स्वादिष्ट होता है। इनमें केवल भैंस का ही नहीं बल्कि गाय और बैल का माँस भी शामिल है। आज भारत के बकरों और भैंस के माँस की भी दुनिया में बहुत बड़ी मांग है। इकोनोमिक टाइम्स में प्रकाशित समाचार के अनुसार, सरकार की अदूरदर्शी नीतियों से माँस की मांग में भारी वृद्धि हुई है। नई दिल्ली स्थित डेयरी के एक अधिकारी ने बतलाया कि अप्रैल 2008 से 2009 के बीच भैंस के माँस निर्यात में पिछले वर्ष की तुलना में 45 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। जब चारा और अन्य वस्तु मंहगी होती है तो भैंस का मालिक उसे सीधे कत्लखाने भेज देता है। लेकिन दिल्ली पशु विश्वविद्यालय के डॉक्टर विनोद कुमार ने इस सम्बंध में लम्बी खोज के बाद कुछ चमत्कार किए हैं। मेरठ के पास उनका एक ष्फॉर्म हाउसष् है जहाँ वे उन भैंसों को खरीदकर ले आते हैं जो समय पर ब्याती नहीं हैं। जो किसान दो-तीन हजार रुपए में भैंस बेचने को तैयार हो जाते हैं, वे उनको दस हजार रु. तक का मूल्य दे देते हैं। उक्त भैंस पुनरू ब्याने पर दूध देना शुरू कर देती है। लेकिन सवाल है इस प्रकार के कितने डॉक्टर विनोद कुमार देश में हैं? दुरूख की बात तो यह है कि इन भैंसों को माँस के लिए काटने पर भारत सरकार अनुदान देती है। जिसका सीधा दुष्प्रभाव दुग्ध उत्पादन पर पड़ता है। हरियाणा की मुररा भैंस दूध के मामले में विश्व विख्यात है। पिछले दिनों उस पर चीन की नजरें पड़ीं। वे इसे यहाँ  से तस्करी द्वारा ले गए। अब चीन में उन पर नए प्रयोग हो रहे हैं। वे भी डाक्टर विनोद कुमार के मार्ग पर अग्रसर हैं। चीन का मानना है कि भारतीयों के घरों में घुसना है तो उन्हें सस्ते दूध की आपूर्ति करो। यदि हमारी भैंसें मांसाहारियों का कौर बनती रहीं तब तो कृष्ण के इस देश को दूध की खोज ष्बीजिंगष् में जाकर करनी पड़ेगी। ष्दी केटल साइट लेटेस्ट न्यूजष् पर 17 दिसम्बर, 2008 को जारी समाचार में यह मांग की गई है कि भारत गोमाँस का उत्पादन बढ़ाए। उसकी भविष्यवाणी है कि गोमाँस के निर्यात में भारत को अनिवार्य रूप से प्रतिवर्ष 5 प्रतिशत की दर से वृद्धि करनी पड़ेगी। फिलहाल विश्व स्तर पर भारत का माँस के निर्यात में तीसरा स्थान है। निरूसन्देह परिस्थिति चिंताजनक हो चुकी है।

No comments:

Post a Comment

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने-आप Blog पर लाइव होते हैं। हमने फिल्टर लगा रखे हैं ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द या कॉमेंट लाइव न होने पाएं। लेकिन अगर ऐसा कोई कॉमेंट लाइव हो जाता है जिसमें अनर्गल व आपत्तिजनक टिप्पणी की गई है, गाली या भद्दी भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है, तो उस कॉमेंट के साथ लगे Email करें। हम उस पर कार्रवाई करते हुए उसे जल्द से जल्द हटा देंगे।

 

Sample Text

 
Blogger Templates